कारवॉं

नयी मंज़िल के मीरे-कारवाँ भी और होते हैं
पुराने ख़िज़्रे-रह बदले वो तर्ज़े-रहबरी बदला
-फ़िराक़ गोरखपुरी

सोमवार, 30 जुलाई 2018

वेनेजुएला संकट और धेले के तीन विकासपुरुष

वेनेजुएला संकट से आप जियो-मरो टाइप विकास को समझ सकते हैं। सर्वाधिक मिस वर्ल्‍ड देने वाले देश में आज दूध 80 लाख रूपये लीटर बिक रहा। इस लिहाज से आप इन विकास पुरुषों की असली कीमत जान सकते हैं। ये त्‍ाथाकथ‍ित पूंजीपति जो सरकार से जनता के टैक्‍स का पैसा बैंकों के माध्‍यम से झटक कर पूंजीपतियों की लिस्‍ट में अव्‍वल बन जाते हैं असली संकट के समय उनसे ज्‍यादा धनी कोई भी खटाल चलाने वाला और अनाज पैदा करने वाला किसान हो सकता है। क्‍योेकि संकट में किसी की भी प्राथमिकता खाना होगी ना कि हजार जीबी नेट का डाटा। यह फ्री डाटा और ऐसे उदयोपतियों के साथ खुद को खडा दिखाने वाले नेता लोग संकट में धेले के तीन नजर आएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: