रविवार, 8 जुलाई 2012

आमजन के जीवट का प्रतिरूप - अब्राहम लिंकन


अमेरिका का सोलहवां राष्ट्रपति बनने के बाद जब लोगों ने अब्राहम लिंकन से विगत जीवन की जानकारी प्राप्त करनी चाही तो लिंकन का जवाब था - “ मेरे जीवन को उलट -पुलट कर इसमें से महानता ढूंढ कर इतिहास बनाने का प्रयत्न निरा पागलपन है । ......यही मेरा जीवन था, जैसा कि साधारण किसान का होता है । ...।” 12 फरवरी 1809 को केन्टकी के एक गांव के खेत में बनी झोपड़ी में जन्मे लिंकन की कथा किसी प्रतिभाषाली महान व्यक्ति की कहानी नहीं है, बल्कि यह लगातार प्रयत्न से तैयार हुआ महान व्यक्तित्व है जिसे युद्धकाल के तलवार के धनी शूरवीरों के जमाने में अपनी सरल, करूणा, दयालुता के साथ दासों को सामान्य जन की गरिमा दिलाने की लड़ाई लडने और उसमें विजयी होने का श्रेय प्राप्त है।

1980 में लिंकन के दादा अब्राहम लिंकन केन्टकी आकर बस गए थे । बसने के चार साल बाद आदिवासियों ने अब्राहम की हत्या कर दी थी । अब्राहम के तीन पुत्रों में एक थामस लिंकन ने अपनी पुत्री सारा के बाद जन्मे पुत्र का नाम अब्राहम रख, पिता की याद को नया जीवन दिया । पिता की हत्या के पष्चात थामस को जहां-तहां भटकना पड़ा । जब अब्राहम आठ साल के थे तब उनकी माता नेन्सी की मृत्यु हो गयी । उसके बाद बड़ी बहन ने उनकी दखभाल की ।

बचपन में पिता की श्रमपूर्ण बढ़ईगिरी और अन्य धंधांे में लिंकन ने लगातार हाथ बंटाया । सामान्य श्रमिकों की तरह थामस का धंधा कभी जमा नहीं, अपने बाद वह कोई संपत्ति नहीं छोड़ पाया । पिता की हत्या का गवाह होने से थामस में जो एक उदासी थी वह अब्राहम को विरासत में मिली, फिर अल्पवय में माता की मृत्यु । इस तरह उदासी अब्राहम का एक स्थायी भाव बन गयी । पिता से मिली उदासी और संपत्तिहीनता की विरासत को लिंकन आजीवन संभाले रहे। धनवान बनने की ईच्छा लिंकन में कभी नहीं रही । लिंकन के अनुसार - “ सम्पत्ति एक ऐसी विलासिता रही जिसकी किसी को जरूरत ही नहीं होनी चाहिए ।”

यूं अपने सदगुणों का श्रेय वे अपनी माता को देते हैं - “आज जो भी सदगुण या खूबियाँ हंै, वे सब उसी की देन हंै ।” उनकी माता किसी वरजीनियावासी सज्जन की नाजायज औलाद थीं। लिंकन की सौतेली माता ने भी सदा उनका ध्यान रखा और पढ़ने-लिखने को प्रोत्साहित किया । वो नहीं चाहती थीं कि लिंकन राष्ट्रपति बनंे । उन्हें डर था कि कहीं उनकी हत्या ना हो जाए । उनका डर आगे सच साबित हुआ ।

उन्नीस साल की आयु में लिंकन का कद छह फुट चार इंच हो गया था पर उस अनुकूल पौष्टिक भोजन के अभाव में कदकाठी पतली-दुबली ही रही । यूं वे ताकतवर थे और कुल्हाड़ी चलाने और दंगल में महारत हासिल थी । आठ साल की उम्र में एक बार लिंकन ने एक मुर्गी पर निषाना साधा, और तब से उन्हें हिंसा से विरक्ति हो गयी और सहायता और दया का भाव उनमें स्थायी हो गया । आगे दासता के खिलाफ संधर्ष में यह भाव उनका संबल बना । बर्फ में फंसे एक शराबी और कीचड़ में फंसे सूअर को उससे बाहर आने में मदद करने के किस्से भी लिंकन से जुड़े हैं । 

लिंकन की कुल स्कूली षिक्षा एक साल से कम रही । पर अपने श्रमषील जीवन में भी उन्होंने अध्ययन के लिए हमेषा समय निकाला । किषोर वय में बहुत से लोगों की तरह वे भी कविताएं लिखते थे । अपने काम के संदर्भ में मिसीसिपी नदी की यात्राओं में उन्हें नीग्रो लुटेरों का भी सामना करना पड़ा था । यात्रा में उन्होंने जिस तरह नीग्रो लोगों को जंजीरांे से बंधा और कोड़ों से पिटता देखा उसने उन्हें गहरे विचलित किया। एक जगह एक वर्णषंकर, गोरी हब्षन की बोली लगते देखा लिंकन ने, वहाँ जिस तरह उसे प्रताडि़त किया जा रहा था उसने लिंकन पर गहरा प्रभाव डाला । वे वहाँ से हट गए पर उस घटना से उनके मन में दासप्रथा के खिलाफ गहरी धारणा बनी ।

इस नौका यात्रा से लौटने के बाद लिंकन न्यू सालेम में बस गया । यह शराबियों और मुर्गी लड़ानेवालों का अड्डा था इस समाज के तमाम क्रिया-कलापों में तो लिंकन ने हिस्सा लिया पर शराबखोरी से सदा दूर रहे। इस दौरान लिंकन ने कितने पापड़ बेले यह देख आष्चर्य होता है। दुकान में सहायक की नौकरी से लेकर नाव खेने, लोहे की छड़ें काटने और दंगल लड़ने तक उन्होंने क्या नहीं किया। पर इस सब के बीच पढ़ना जारी रखा। कपड़े की दुकान में खाली समय में वह कपड़ों का गट्ठर सिर के नीचे रख गणित के सवाल हल करने में लग जाते। इस बीच उन्होंने कानून की पढ़ाई की और मौका मिलने पर रोटी के लिए सैनिक टुकड़ी की कप्तानी भी की।

धीरे-धीरे लिंकन में अध्ययन की आदत पड़ती गयी नतीजा उसका धंधा चैपट होता गया। उधार लेकर षुरू किया गया अपना व्यवसाय उन्हें दूसरे को उधार में ही चलाने को सौंपना पड़ा। यांत्रिक समस्याओं में भी उनकी रूचि थी और वह खोज-बीन में  भी लगे रहते थे। अपने जीवनकाल में उन्होंने अपनी एक खोज का पेटेंट भी करवाया।

25 साल की उम्र में उन्होंने राजनीतिक जीवन आरंभ कर दिया था। संवैधानिक समस्याओं के निपटारे और अन्य नैतिक मसलों में उनकी हमेषा रूचि रहती थी। इस बीच उन्होंने सर्वेयर का काम भी सीखा। इस विषय पर एक किताब भी पूरी की। जबतक वकालत जमी नहीं वह सर्वेयर का काम करते रहे। वकालत जमने के पूर्व उन्होंने पोस्टमास्टर की सरकारी नौकरी भी की।

सेना में कप्तानी और पोस्टमास्टरी के बीच एक बार लिंकन ने स्थानीय धारा सभा का चुनाव भी लड़ा और हार गये। लिंकन के इस पहले चुनाव में दिए गए भाषण को देखना खासा रोचक लगता है, वह कहते हैं- ‘... मैं विनम्र अब्राहम लिंकन हूं।... मेरी राजनीति छोटी सी है, और बुढि़या के नृत्य की तरह मनोरंजक भी है।...यदि चुन लिया गया तो मैं आपका षुक्रगुजार हूं और यदि नहीं चुना गया तो भी मुझे आपसे कोई षिकायत नहीं।’

1834 में लिंकन ने पुनः धारासभा का चुनाव लड़ा। और चुनाव जीता भी। आगे लगातार तीसरी बार वे चुने गए। दूसरे चुनाव के समय राज्य की राजधानी स्प्रिंगफिल्ड चली गई और लिंकन भी वहां चले गए। धारासभा के लिए चुने जाने के आरंभिक दौर में लिंकन ने लोगों को सुनने में समय दिया। बाद में धीरे-धीरे आत्मविष्वास प्राप्त कर उन्होंने भाषण देना षुरू किया। अपने भाषणों में वे साहस के साथ अपनी बातें रखते थे और बुद्धिमानी से नियंत्रित अवसरवाद को जगह देते थे।

1836 में दास प्रथा की समाप्ति के लिए आंदोलन आरंभ हो गया था। लिंकन भी इसके पक्ष में थे। लिंकन का स्पष्ट मत था कि- ‘दास प्रथा का आधार अन्याय व बुरी नीति है।’ तमाम प्रबुद्ध लोगों की तरह लिंकन भी चीजों को उसके द्वंद्वात्मक स्वरूप में और सामयिक संदर्भों में देखने की कोषिष करते थे। दास प्रथा, ईष्वर और षराबियों के बारे में उनका वक्तव्य उद्धृत करने योग्य है। वे कहते हैं- ‘...प्रभु ने स्वयं निम्न व पतित व्यक्तियों में भी अपना स्वरूप प्रकट किया है, तो ऐसे व्यक्तियों की निंदनीय मृत्यु होने पर भी उन्हें अंत में मुक्ति प्रदान करने में उसे अस्वीकृति नहीं होगी। मेरी राय में हमलोग जो ऐसे दुव्यसनों से बचे हुए हैं, उसका कारण यह है कि हममें इस तरह की भूख नहीं जागी है। इसका अर्थ यह तो नहीं कि जिन लोगों में ये व्यसन हंै, उनसे हम बुद्धि और चरित्र में सर्वोपरि हैं। सचमुच यदि देखा जाए, मसलन षराबी वर्ग को ही लिया जाए तो उनकी बुद्धि और हृदय की विषालता की दूसरे वर्गों से तुलना की जा सकती है।’

पिता से विरासत में मिली उदासी और अल्पवय में मां की मृत्यु के आघात ने लिंकन को जो उदास व्यक्तित्व दिया था उसे पहले प्रेम के उनके अनुभव ने और गहरा किया। केन्टकी में लिंकन की मित्रता एक सुंदर लड़की एन रूटलेज से हुई थी। एन जब लिंकन के संपर्क में आयीं उसके पूर्व एक अन्य तरूण के प्रेम में पड़ चुकी थीं। तरूण एन को छोड़ गया था और उसके षोक में एन ने आगे प्राण त्याग दिए। लिंकन इससे आहत हुए। एन की कब्र की बाबत उनहोंने कभी कहा था- ‘यहां मेरा हृदय गड़ा हुआ है...।’

रूटलेज की मृत्यु के बाद लिंकन ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया था। वे यह सोचकर चिंतित हो जाते थे कि उनकी प्रेयसी की कब्र पर कभी बर्फ गिर रही होगी। अकेला पड़ते ही वे मानसिक पीड़ा से घिर जाते थे। आगे लिंकन मेरी ओवेन्स के प्रेम में पड़े। मेरी ओवेन्स की भी कहीं और षादी हो गई। तब ओवेन्स की बहन ने कुछ मजाक में आधे-अधूरे मन से लिंकन के सामने प्रेम-प्रस्ताव रखा। लिंकन ने कुछ आदर्ष सवाल ओवेन्स के समक्ष रखे, जैसे- ‘... क्या वह बिना गाडि़यों और षानषौकत के जिंदगी गुजार सकती हैं ?... अपनी गरीबी की दषा को बिना छिपाए हुए साधारण जीवन बिता सकती है।’

आगे लिंकन के जीवन में मेरी टोड आयीं। 1841 में दोनों के विवाह की भी तैयारी होने लगी थी पर तभी पुरानी यादों ने लिंकन के मानस को विचलित कर दिया और वे विक्षिप्त से हो गए। उस समय लिंकन की लगातार निगरानी होती थी और हथियार आदि से दूर रखा जाता था आगे धीरे-धीरे वे सामान्य हुए।

अंततः 1842 में लिंकन का विवाह हो गया। श्रीमति लिंकन के पूर्व पति की हत्या हो गई थी। सो नये सहजीवन में प्रेवष के बाद भी वे जब-तब उग्र हो उठती थीं। सो लिंकन घर से दूर रहना पसंद करने लगे थे। यूं इन छोटे-मोटे व्यवधानों को दरकिनार करें तो लिंकन अपनी पत्नी को आदर्ष पत्नी मानते थे जिसने साइस के साथ गरीबी के मुकाबले में उनका साथ दिया। एक बार उसने लिंकन को एक षानदार सरकारी नौकरी करने से मना कर दिया था और यह एक सही फैसला था तभी आगे वे राष्ट्रपति के पद की ऊंचाई तक पहुंच सके। कुल मिलाकर विवाह पर लिंकन की राय थी कि- ‘विवाह एक संघर्ष क्षेत्र है, फूलों की सेज नहीं।’

1848 से 1854 के बीच लिंकन राजनीति से दूर रहे। इस बीच उन्होंने अपने कानूनी धंधे पर ज्यादा ध्यान दिया। पुस्तकों का अध्ययन कम हुआ पर व्यक्तियों का, चरित्रों का सजीव अध्ययन ज्यादा किया। इस दौरान उन्होंने पागल हो गए अपने एक मित्र को लेकर कुछ कविताएं भी लिखीं- ‘जब सभी स्वर मृत्यु के निनाद हो गए/और जहां सभी स्थल समाधियां’ ये पंक्तियां उनके भीतर के करूण-पीड़ामय व्यक्तित्व को दर्षाती हैं। दर्द की इस गहन अभिव्यक्ति के साथ बाह्य रूप से लिंकन बच्चों और सामान्य जन से निकटता रखने वाले विनोद प्रिय व्यक्ति के रूप में खुद को ढाल रहो थे।

इस दौरान वकालत के अपने पेषे में भी लिंकन का अलग व्यक्तित्व उभरा। जिन मुकदमों को उसकी आत्मा स्वीकार नहीं करती थी उन्हें वे नहीं ले़ते थे या बीच में छोड़ देते थे। लिंकन इस ख्याल को एकदम गलत मानते थे कि कानून के धंधे में थोड़ी-बहुत बेईमानी चलती है।

इस तरह जब लिंकन को दुबारे राजनीति के क्षेत्र से आने का आह्वान किया गया तो इस बीच वह ज्यादा प्रबुद्ध और टिकाऊ राजनीति के योग्य हो चुका था। वह फिर इल्लीनायस की धरासभा का सदस्य चुन लिया गया। 1854 में लिंकन ने रिपब्लिकन दल के जन्मदाता के रूप में प्रवेष किया। यह दल दास प्रथा विरोधी था।

अगस्त 1885 में अपने मित्र जोषुआ स्पीड को लिखे पत्र में लिंकन लिखते हैं- ‘...मैं दास प्रथा पसंद नहीं करता हूं।...मैं उन्हें पकड़े जाते और कोड़ों की मार और असहनीय मजदूरी पर वापस ढकेले जाते देख नफरत से भर उठता हूं।’ पर दासता के अंत की कीमत वे गणराज्य के बिखराव के रूप में नहीं चुकाना चाहते थे। इसलिए वे इसके लिए जान ब्राउन (1859) की तरह क्रांतिकारी तरीके अपना खुद को फांसी चढ़वा देने के भी पक्षधर नहीं थे। ‘अब्राहम लिंकन’ पुस्तक के लेखक लार्ड चार्नवुड ब्राउन के संदर्भ में लिखते हैं- ‘वे लोग एकाकी व समाज के विरूद्ध विद्रोही भावना के कारण अपने आप पर मुक्तिदाता की जिम्मेवारी ले लेते हैं।’ इसके मुकाबले लिंकन अपनी नफरत को छुपाकर मौके का इंतजार करते हैं। ‘जब उसने देखा कि समय आ गया है, उसने प्रस्ताव रूप में उसे रख दिया।’ चार्नवुड लिखते हैं- ‘जान ब्राउन अचानक ही उस समय रंगमंच पर आ जाता है जबकि कुछ समय बाद ही दास प्रथा विरोधी प्रमुख अभिनेता (लिंकन) का आगमन होने वाला था।’
अगर हम देखें तो अपनी जान मात्र ब्राउन को ही नहीं देनी पड़ी, लिंकन की भी आखिर हत्या हो जाती है, नस्ली घृणा से अभिभूत जान विक्स बूथ के हाथों। पर लिंकन भविष्य में दासता के भूत के फिर उठ खड़े होने की जमीन हमेषा के लिए तोड़ डालते हैं।

1858 में जब किसी ने लिंकन से राष्ट्रपति पद के लिए नामजद किए जाने की चर्चा की तो उिन्होंने कहा- ‘मैं अपने-आप को राष्ट्रपति पद के योग्य नहीं समझता।’ पर आगे राष्ट्रपति के रूप में अपना नाम प्रस्तुत किए जाने पर वे चुनाव जीतने की तैयारी में लग गए। चुनाव में उसके मुकाबले प्रषासनिक तौर पर ज्यादा योग्य दो व्यक्ति खड़े थे। पर अपने सरल भाषणों से लोगों को अभिभूत करने वाले लिंकन आखिर (1860) राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत गए।

31 जनवरी 1865 को प्रतिनिधि सभा ने सीनेट द्वारा पहले पास किया हुआ दास-प्रथा रोकने के लिए वैधानिक संषोधन का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। 4 मार्च 1865 को लिंकन ने दूसरी बार संयुक्त राज्य के राष्ट्रपति का पद ग्रहण किया। इस बार उसके अंगरक्षकों में नीग्रो सेना की टुकड़ी भी थी। पर आमजन के जीवट के इस अद्भुत उदाहरण को समय अब रंगमंच से हटाना चाहता था। 14 अप्रैल 1865 को नाटक देखते समय एक रंगकर्मी ने नस्लीघृणा के वषीभूत हो लिंकन की हत्या गोली मार कर दी।

1 टिप्पणी:

Suraj Patel ने कहा…

अब्राहम लिंकन पर इस लेख के लिए धन्यवाद.