कारवॉं

नयी मंज़िल के मीरे-कारवाँ भी और होते हैं
पुराने ख़िज़्रे-रह बदले वो तर्ज़े-रहबरी बदला
-फ़िराक़ गोरखपुरी

सोमवार, 25 जनवरी 2010

लडकी जीना चाहती है ....

मैटर को पढने के लिए दो बार क्लिक करें...