कारवॉं

नयी मंज़िल के मीरे-कारवाँ भी और होते हैं
पुराने ख़िज़्रे-रह बदले वो तर्ज़े-रहबरी बदला
-फ़िराक़ गोरखपुरी

सोमवार, 19 अक्तूबर 2009

साम्राज्‍यवाद और कविता - कुमार मुकुल

मैटर पढने के लिए दो बार क्लिक करें



आज समाज दैनिक से

कोई टिप्पणी नहीं: