रविवार, 16 अगस्त 2009

शब्द - कविता - भाषा सिंह


नई दुनिया की रेविंग एडिटर भाषा सिंह ने कुछ कहानियां व कविताएं भी लिखी हैं। हंस के युवा अंक में उनकी एक कहानी छपी है,पढिए उनकी यह कविता


शब्द जो उड़ रहे थे
हवाओं में
उन्हें जब मुट्ठी में
बंद करने की सोची
(तितली की तरह)
तो लिपट गए बदन से मेरे
उनके चुंबनों से
फूल से भी हल्का
हो तन मेरा
छन-छन टपकती चांदनी-सा खिल उठा

उनमें गहरे... और गहरे
डूबने की प्यास
कम होने का नाम न ले रही थी
ऊंचे और ऊंचे, हांफने वाली
ऊंचाई पर मुझे
पहुंचाना चाहते थे शब्द

वे धंस जाना चाहते थे
बुदबुदाते हुए मेरा नाम
मेरे मन में

पागल प्रेमी के कसीले मोहपाश-सा
उनका आवेग
खींचे ले जा रहा था मुझे
उस बंजर ज़मीन पर
जो सालों-साल तरसती रही
एक भरपूर बारिश के लिए
उनका आना बड़ा खुशगवार लगा
गोकि मैं जानती हूं
मर्द-औरत की मादह गंध में
डूबे-से ये शब्द
मेरी तेल लगी देह पर
न टिकेंगे देर तक
फिर भी...
उनके उन्मुक्त स्पर्श से
वंचित नहीं होना चाहती
मेरी बंजारन रूह !

कोई टिप्पणी नहीं: