गुरुवार, 11 जून 2009

कि अब वही है साक्षात घटोत्‍कची वारिस

अपनी नजरों में
जितना बडा
या महान होना था
हो चुका वह कवि
और कुछ होने की बाबत
जानता नहीं वह
सो
होता जा रहा है पंडित फिर से
वही तोंद बजाता
गाल फुलाता
पाखंड भरे गुस्‍से से
शेखी से रोता रोना
अपने ना पूछे जाने का
सार्वजनिक तौर पर कोसता
अपने अदृश्‍य शत्रुओं को
और दृश्‍य शत्रुओं को सुरापान कराता
मुंहफट , दीवाना होने का नाटक सा करता
कि आंखों की तरेर से चलताउ काम करवाता
सोचता
कि सोच चुका सारा
अब कोंचना है
अपने विवेक को
बस कोंचते जाना है
कि अब कोई श्री या अकादमी या पीठ
मिले ना मिले
ठेंगे से
कि अब वही है साक्षात
घटोत्‍कची वारिस
तमाम
पुरस्‍कारों, सम्‍मानों, उपाधियों का
कि चतुर्दिक घेरें वे उसे
नहीं तो मरकर भी
मार डालेगा वह
न जाने कितनी अक्षौहिणी जन सेनाओं को
कि डम डम डम ...
अब इस प्रण से उसे
नहीं सकता कोई डिगा ...।

1 टिप्पणी:

रंजना ने कहा…

सत्य को सुन्दरता से उद्घाटित करती प्रभावशाली रचना.